Cbse Exam Pattern 2024 For Board Exams class 10&12

Cbse Exam Pattern 2024: सीबीएसई ने 2024 में होने वाली कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं का समय सारणी जारी कर दी है। इन परीक्षाओं की शुरुआत 15 फरवरी 2024 को होगी और कक्षा 10 के लिए 13 मार्च तक, कक्षा 12 के लिए 2 अप्रैल तक चलेगी। छात्र दिए गए लिंक्स का उपयोग करके इस समय सारणी की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इस समय सारणी से छात्रों को मुख्य परीक्षा दिनों का संक्षेप, परीक्षा समय, और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी मिलेगी, जिससे उन्हें उनकी पढ़ाई को ठीक से संचित और योजित करने में मदद मिलेगी।

Cbse Exam Pattern 2024 को जानते हुए, यह सुनिश्चित होना महत्वपूर्ण है कि छात्रों को नए सत्र के लिए कैसे तैयारी करना है। नए पैटर्न में क्या बदलाव हुआ है और कैसे इसका सामना करना होगा, इससे संबंधित सभी जानकारी को समझाने के लिए, छात्रों को सीधे और पूरे रूप से सूचित रहना चाहिए। इस नए पैटर्न का समझना छात्रों को अध्ययन की योजना बनाने और परीक्षा की तैयारी में मदद करेगा। इसलिए इस लेख में हम आपको Cbse Exam Pattern 2024 बताने वाले हैं।

Cbse exam pattern 2024

Cbse exam pattern क्या होता है

सीबीएसई का परीक्षा पैटर्न छात्रों के लिए एक महत्वपूर्ण मार्गदर्शन है, जिससे वे परीक्षा की सही तैयारी कर सकते हैं। यह पैटर्न विषयवार और कक्षावार परीक्षा पैटर्न, प्रश्न का ढांचा, अंक वितरण, और अन्य विवरणों को संग्रहित करता है। 2024 में हुए बदलावों के साथ, छात्रों को इस पैटर्न को समझने का एक नया दृष्टिकोण प्राप्त करना होगा। यह उन्हें परीक्षा की स्वभाव, कठिनाईयों, और महत्वपूर्ण विषयों की सारांशिक रूप से समझने में मदद करता है, जिससे वे अपनी पढ़ाई को और भी प्रभावी बना सकते हैं।

 Cbse exam pattern 2024

2024 में होने वाली सीबीएसई की 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाएं नए पैटर्न में आयोजित होंगी। इस नए पैटर्न में प्रश्न पत्रों में एमसीक्यूआईएस की संख्या में वृद्धि और कुशल स्तर के अधिक सवालों का पर्याप्त ध्यान रखा गया है। इसके साथ ही, पहले की तुलना में, छोटे और लंबे उत्तरों वाले सवालों में कमी होगी। यह बदलाव छात्रों को रट्टे से बाहर निकलने के लिए प्रेरित करने के लिए किया गया है, ताकि वे अपनी रचनात्मक और नैतिक सोचने की क्षमताओं को विकसित कर सकें। ये परिवर्तन नेशनल एजुकेशन पॉलिसी (एनईपी) 2020 की सिफारिशों के अनुसार किए गए हैं।

साथ ही, बोर्ड ने आने वाली बोर्ड परीक्षा 2024 के लिए कक्षा 10 और 12 के लिए विषयवार मार्क्स वितरण को भी जारी किया है। इसमें, बोर्ड ने सत्र 2023-24 के लिए सिद्धांत परीक्षा और प्रैक्टिकल/परियोजना/आंतरिक मूल्यांकन के लिए अधिकतम अंकों को तय किया है। यह स्टूडेंट्स को नए पैटर्न के साथ तैयारी करने के लिए समझाता है और उन्हें प्रैक्टिकल ज्ञान और सिद्धांत परीक्षण की दिशा में मार्गदर्शन करता है।

Cbse exam pattern 2024 for class 10

2024 में होने वाली सीबीएसई के बोर्ड परीक्षा के प्रारूप में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव होने वाले हैं। नए पैटर्न के अनुसार, प्रश्नों का 50% हिस्सा क्षमता को मुख्यधारा में लेकर पूछा जाएगा। इसमें बहुवैकल्पिक प्रश्न, केस-आधारित प्रश्न, या अन्य प्रकार के हो सकते हैं, जो छात्रों की सामर्थ्य को मापने में मदद करेंगे।

चयन प्रतिक्रिया प्रकार के प्रश्नों का हिस्सा 20% होगा, जिसमें बहुवैकल्पिक प्रश्नों के रूप में हो सकते हैं, इससे छात्रों को विचार करने और विभिन्न दृष्टिकोण से समस्याओं का समाधान करने का अवसर मिलेगा।

आखिर में, 30% प्रश्न निर्मित प्रतिक्रिया के प्रश्न होंगे, जैसा कि मौजूदा पैटर्न के अनुसार हैं। इसमें छोटे और लंबे उत्तर वाले प्रश्न शामिल हो सकते हैं, जो छात्रों को संपूर्ण तरीके से विचारने और विषय में गहराई से समझने का मौका देंगे। यह नया पैटर्न छात्रों को सोचने और समस्याओं का समाधान करने में सक्षम बनाए रखने का एक उत्कृष्ट अवसर प्रदान करेगा।

Cbse exam pattern 2024 for class 12

2024 के लिए सीबीएसई के बोर्ड परीक्षा के नए प्रारूप के अनुसार, प्रश्नों का 30% हिस्सा क्षमता को मुख्यधारा में रखकर पूछा जाएगा। इसमें एमसीक्यूआई, केस-आधारित प्रश्न, स्रोत-आधारित एकीकृत प्रश्न या कोई अन्य प्रकार के प्रश्न शामिल हो सकते हैं, जो छात्रों की सामर्थ्य को मापने में मदद करेंगे।

वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का हिस्सा 20% होगा, जिससे छात्रों को विभिन्न दृष्टिकोणों से विचारने और समस्याओं का समाधान करने का अवसर मिलेगा।

बचे हुए 50% प्रश्न छोटे उत्तर/लंबे उत्तर के प्रश्न होंगे, जो छात्रों को सीधे सोचने और सारांश बनाने की क्षमता को स्थापित करने में मदद करेंगे। यह नया प्रारूप छात्रों को उनकी क्षमताओं को मूख्य बनाकर और बाकी के चयन के प्रश्नों के माध्यम से सूचना संग्रह करने का मौका देता है, जिससे वे प्रश्नों का सही और सरल तरीके से सामग्री को समझने में सक्षम हो सकते हैं।

Cbse exam pattern 2024 के लाभ

2024 की सीबीएसई की परीक्षा पैटर्न में किए गए सुधारों के फायदे की चर्चा करते हैं। यह नया पैटर्न छात्रों को बेहतर सोचने की क्षमता में मदद करता है, क्योंकि 30% प्रश्न उनकी क्षमताओं पर आधारित हैं और उन्हें सोचने और समस्याओं का समाधान करने के लिए प्रेरित करता है।

इसके अलावा, वस्तुनिष्ठ प्रश्नों के 20% होने से छात्र विभिन्न विषयों में ज्ञान बढ़ा सकते हैं, जिससे उनकी समझ में सुधार होती है। छोटे और लंबे जवाबों के प्रश्नों का मिश्रण, छात्रों को सभी मुद्दों पर सोचने और समझने में मदद करता है, जिससे उनका विकास समर्थन और बानी बनता है।

इस पैटर्न के माध्यम से सीबीएसई छात्रों को नए सोचने के तरीके का मौका मिल रहा है, जिससे उनका विकास न केवल एकाधिकारिक शिक्षा में, बल्कि सामाजिक, आर्थिक, और राजनीतिक मुद्दों के प्रति जागरूकता में भी सहायक हो सकता है।

Frequently Asked Questions

सीबीएसई 2024 का परीक्षा पैटर्न में बदलाव क्यों किया गया?

सीबीएसई ने 2024 में परीक्षा पैटर्न में बदलाव करके छात्रों को रचनात्मक सोच और नैतिकता में सुधार करने का मौका देने का उद्देश्य है, जिससे उनका समर्थन और समझ में वृद्धि हो।

नए पैटर्न में कौन-कौन से प्रकार के प्रश्न होंगे?

नए पैटर्न में, 30% प्रश्न क्षमता को मुख्यधारा में लेकर होंगे, 20% वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे, और बचे हुए 50% प्रश्न छोटे उत्तर/लंबे उत्तर के प्रश्न होंगे।

क्या छात्रों को परीक्षा की तैयारी के लिए कोई विशेष सुझाव दिए गए हैं?

हाँ, छात्रों को सीबीएसई ने पैटर्न के साथ-साथ परीक्षा की तैयारी के लिए विशेष दिशा-निर्देश भी प्रदान किए हैं, जिससे वे सही तरीके से तैयारी कर सकते हैं।

क्या नया पैटर्न छात्रों को विषयवार अध्ययन करने के लिए प्रेरित कर रहा है?

हाँ, नया पैटर्न छात्रों को विषयवार और कक्षावार परीक्षा पैटर्न को समझने के लिए प्रेरित कर रहा है, जिससे उनकी तैयारी में वृद्धि हो।

क्या छात्रों को प्रैक्टिकल/परियोजना/आंतरिक मूल्यांकन के लिए अधिकतम अंकों का निर्धारण हुआ है?

हाँ, बोर्ड ने सत्र 2023-24 के लिए सिद्धांत परीक्षा और प्रैक्टिकल/परियोजना/आंतरिक मूल्यांकन के लिए अधिकतम अंकों को निर्धारित किया है।

निष्कर्ष

इस सीबीएसई की 2024 की परीक्षा पैटर्न के विषय में, हम यहाँ यह सारांश निकाल सकते हैं कि नया पैटर्न छात्रों को एक नए दृष्टिकोण से सोचने और समस्याओं का समाधान करने का अद्वितीय मौका प्रदान कर रहा है। इसने छात्रों को रचनात्मक और नैतिक सोचने की क्षमताओं को बढ़ावा देने का प्रबंध किया है और उन्हें एक सामग्री के साक्षरता से बाहर निकलने का मौका दिया है। नये पैटर्न के माध्यम से सीबीएसई ने छात्रों को विभिन्न क्षेत्रों में सोचने के लिए प्रेरित किया है, जिससे उनका समर्थन और बानी बन सकता है। इससे सामाजिक सुधार और शिक्षा में नई दिशा मिल सकती है, जिससे हमारे समाज का विकास हो सकता है।

Leave a Comment

x